डाक टिकट पर पुश्तैनी धंधे का फ़ोटो लगाने पर सैन समाज में रोष


प्रधानमंत्री मोदी ने सोमवार को विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना के लिए दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम में हाथ की दस्तकार मानी गई अनूसूचित जाति, जनजाति अन्य पिछड़ी जातियों को रोजगार उपलब्ध कराने के लिए लोन देकर किट उपलब्ध कराने का फरमान जारी किया है।। साथ ही एक डाक टिकट भी जारी किया है जिसमें प्रत्येक जाति के व्यक्ति का पुस्तैनी धंधा करते हुए फ़ोटो लगाई हुई है। डाक टिकट पर इस तरह की फ़ोटो को लेकर सैन सविता नंद सहित कई जातियों में रोष देखा जा रहा है। उन्होंने इसे अपना अपमान मानकर गहरा दुख प्रकट किया है।
पिछड़ी जातियों के पुश्तैनी काम की फ़ोटो डाक टिकट पर लगाने को लेकर चर्चित नेता स्वामी प्रसाद मौर्य ने भाजपा सरकार को कटघरे मे खड़ा किया । उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि केंद्र सरकार प्रत्येक वर्ष 2 करोड़ नौकरी देने का वादा तो पूरा नहीं कर सकी लेकिन सरकार ने विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना पर जारी डाक टिकट में पुश्तैनी धंधे के फोटो लगाकर लोगों का जातिगत अपमान किया है।
भाजपा सरकार ने करोड़ों नौजवानों को बेरोजगार बना दिया। आज ग्रेजुएट, पोस्ट ग्रेजुएट नौजवान सरकारी नौकरी के अभाव में अपने परिवार के भरण पोषण के लिए लोहारी कोहरी राजगिरी, बाल बनाने, कपड़ा धोने डलिया आदि बनाने जैसे कार्यों से अपने व अपने परिवार के भरण पोषण हेतु मजबूर हुए हैं, सरकार इन्हें नौकरी देने के बजाय पुस्तैनी धंधे की ओर भेजने की नापाक कोशिश कर रही है।
डाक टिकट पर हजामत बनाते हुए व्यक्ति की फोटो लगी देख सैन नंद समाज के लोगों को भी अपमानित महसूस हो रहा है। कुछ लोग इसके विरोध में अपनी प्रतिक्रिया भी दे रहे हैं। देबी सिंह सैन ने अपना रोष जाहिर करते हुए कहा कि केंद्र सरकार ने समाज को अपमानित करने का कार्य किया है। इसकी हम घोर निंदा करते हैं। केंद्र सरकार के खिलाफ हमें जल्द से जल्द कदम उठाना चाहिए। हमें ऐसा टिकट नहीं चाहिए जिससे हमारी आने वाली पीढ़ी को अपमानित होना पड़े। जो हमारे बुजुर्गों ने अपमान सहा है,वह अब हम नहीं सहेंगे । हमें जल्दी से जल्दी कठोर कदम उठाना चाहिए। इसके लिए समाज के जो सम्मानित हुए पुराने नेता हैं, सबको एक होना पड़ेगा और जंतर मंतर पर धरना देना पड़ेगा। 2024 में आने वाले चुनाव में केंद्र सरकार को इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा। मैं खुलकर इस डाक टिकट का विरोध करता हूं। यह टिकट जारी कर सैन सविता नंद समाज के लोगों का घोर अपमान किया गया है। इस फोटो की जगह चक्रवर्ती सम्राट महापदम नंद जी का या श्री सैन जी महाराज का फोटो भी तो लगाया जा सकता था। भाजपा सरकार की क्या मंशा है, यह बता दिया गया है कि तुम जो कल थे, आज भी वही हो और कल भी वही रहोगे। 

मनीष निर्वाण ने अपनी प्रतिक्रिया कुछ यूं दी,"तेली ने अपने भक्तों को अच्छा उपहार दिया है।अब चिल्लाते रहो हर हर मोदी।" 


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ